दरवाजे के लिए स्मार्ट एवं ऑटोमैटिक घंटी

graphics-click-here-688974इस आविष्कार को करने के लिय उपकरण यहाँ से प्राप्त करें|

समस्या:
आजकल हम तकनिकी के साथ लेकर अपना जीवन के तरीके को आधुनिक कर रहे हैं| हम विज्ञानं एवं तकनिकी का मदद लेकर अपने आसपास के बहुत सारे समस्याओं का सामाधान कर सकते हैं| हम अक्सर देखते हैं कि हमारे घर कि घंटी बजती है तो कोई आगंतुक हमारे घर के दरवाजे पर खरा होता है| पर निम्नलिखित परिस्थितियों में हमें घंटी बजाने में कठिनाइयों का सामना करना परता है|

  1. जब हमारे दोनों हाथों में सामान होता है, तो हम बड़ी मशक्कत से घंटी बजा पाते हैं|
  2. हमारे बुजुर्ग को भी कभी कभी घंटी बजाने के लिए काफी मशक्कत करनी परती|
  3. हमारा घंटी कि स्विच कभी इतनी ऊपर होती है कि बच्चे वहां तक पहुँच नहीं पाते है जिसके कारण वे घंटी को बजा नहीं पाते है|
  4. बार-बार घंटी उपयोग होने के कारण उस पर काफी गंदगी जमा हो जाता है जिसके कारण स्विच पर बहुत तरह के जीवाणु उत्पन्न हो जाते हैं, और जब हम घंटी बजाते हैं तो वे हमारे हाथो से चिपक जाते हैं, जो कि सावघानी नहीं बरतने पर हमारे आहार के द्वारा शरीर के अंदर जा सकते हैं|
  5. कभी कभी कुछ आगंतुक को घंटी कि जानकारी नहीं होती है तो वे परेशानी का सामना करते हैं|

अगर हम कुछ ऐसा आविष्कार करें जिससे कि हम अपने घंटी को स्मार्ट एवं ऑटोमैटिक बना सकें और यह जैसे ही कोई आगंतुक हमारे घर के दरवाजे के सामने खरा हो वह उसको सेंस करके घंटी को अपने आप बजा दे|

सामाधान:
यहाँ हम इस समस्या से निपटने के लिए एक ऐसी प्रणाली विकसित करेंगे जिससे कि हम एक ख़ास तरह के इन्फ्रारेड लाईट को उत्सर्जित करेंगे जो कि किसी के सामने आने पर परिवर्तित होकर वापस आयेगा और उसमे लगा हुआ सेंसर उसे सेंस करके यह पहचान लेगा कि कोई बहार दरवाजे पर खरा है| अगर वह एक निश्चित न्यूनतम समय से ज्यादा देर तक खरा रहता है तो इससे यह निश्चित हो जायेगा कि वह हमारे ही आगंतुक हैं और ऑटोमैटिक सर्किट अपने से लगी घंटी को बजा देगा|

एक व्यवस्था ऑटोमैटिक दरवाजा घंटी प्रणाली के लिए|

एक व्यवस्था ऑटोमैटिक दरवाजा घंटी प्रणाली के लिए|

जरुरी उपकरण:

  • इन्फ्रारेड बल्ब
  • विशेष प्रकार के इन्फ्रारेड सेंसर
  • IC555D टाइमर
  • कैपासिटर 1pF के दो तथा 1F के एक
  • प्रतिरोध 330ओह्म, 220ओह्म, 100ओह्म एवं 20ओह्म
  • 20 किलो-ओह्म एवं 1 किलो-ओह्म का चर-प्रतिरोध
  • पॉवर-ट्रांसिस्टर दो कि संख्या में
  • इलेक्ट्रानिक घंटी
  • 9 वोल्ट कि बैटरी
  • बैटरी कनेक्टर
  • 5 मीटर जोरा-तार
  • PCB दो कि संख्या में
    सारे उपकरण को प्राप्त करने के लिएgraphics-click-here-688974 यहाँ क्लिक करें|

डिज़ाइन एवं कार्यप्रणाली:
हमारा यह आविष्कार एक विशेष प्रकार के इंफ्रारेड लाईट से संचालित होगा जो कि अदृश्य होता है एवं 38 किलो-हर्ट्ज के आवर्ती कि तरंग से सम्मलित होती है| हम पहले निचे दिए गए चित्र के अनुसार 330ओह्म का प्रतिरोध, 20 किलो-ओह्म का चर-प्रतिरोध एवं 1pF के कैपेसिटर को एक सीध में जोरकर 330ओह्म का एक सिरा 9 वोल्ट कि बैटरी के धनात्मक सिरे से जोरेंगे तथा 1pF के कैपेसिटर का एक सिरा बैटरी के ऋणात्मक सिरे से जोरेंगे| इसके पश्चात 330ओह्म एवं 20 किलो-ओह्म के मध्यबिंदू को IC555D के पिन-7(डिस्चार्ज) से जोर देंगे इसके आलावा 20 किलो-ओह्म तथा 1pF कैपेसिटर के मध्यबिंदू को पिन-2 एवं पिन-6 से जोरेंगे| IC555D के पिन-4 एवं पिन-8 को एकसाथ बैटरी के धनात्मक सिरे से जोर देंगे और IC555D के पिन-1 को सीधे बैटरी के ऋणात्मक सिरे से जोरेंगे तथा पिन-5 को एक अन्य 1pF कैपेसिटर के सहायता से बैटरी के ऋणात्मक सिरे से जोरेंगे| अब पिन-3 जो कि उत्पाद का पिन है, उसके साथ 220ओह्म के प्रतिरोध के एक सिरे को जोरेंगे तथा दुसरे सिरे को इन्फ्रारेड बल्ब के धनात्मक सिरे से जोरेंगे तथा इन्फ्रारेड बल्ब के ऋणात्मक सिरे को बैटरी कि ऋणात्मक सिरे से जोर देंगे| इस तरह से एक विशेष प्रकार कि इन्फ्रारेड तरंग उत्सर्जित करने वाली प्रणाली डिजाइन हो गयी|

ट्रांसमीटर सर्किट का डायग्राम

ट्रांसमीटर सर्किट का डायग्राम

दुसरे भाग में हम एक विशेष प्रकार के सेंसर TSOP1738 का प्रयोग करेंगे जो कि सिर्फ 38 किलो-हर्ट्ज आवृति वाली सम्मलित इन्फ्रारेड तरंग को ही सेंस करेगी| इसके पिन-1 को बैटरी के धनात्मक सिरे से तथा पिन-2 को बैटरी के ऋणात्मक सिरे से जोर देंगे| तत्पश्चात पिन-3 से 1F के एलेक्ट्रोलाईट कैपेसिटर का धनात्मक सिरा तथा 1 कलो-ओह्म के चर-प्रतिरोध एक सिरे को जोड़ देंगे| कैपेसिटर का ऋणात्मक सिरा को बैटरी के ऋणात्मक सिरे से जोड़ देंगे और 1 कलो-ओह्म के चर-प्रतिरोध का दूसरा सिरा एक पॉवर-ट्रांसिस्टर के बेस सिरे से जोड़ देंगे| तथा इसके बाकि कि सर्किट को हम चित्रानुसार जोड़ देंगे| तथा इलेक्ट्रानिक-घंटी के ऋणात्मक सिरे को दुसरे ट्रांसिस्टर के कलेकर टर्मिनल से जोड़कर इसके धनात्मक सिरे को बैटरी के धनात्मक सिरे से जोड़ देंगे| जैसे ही TSOP1738 सम्मलित इन्फ्रारेड लाईट को सेंस करेगा यह एक निम्न वोल्टेज देगा जो ट्रांजिस्टर सर्किट के द्वारा इलेक्ट्रानिक-घंटी को बजा देगा| पहले ट्रांजिस्टर के पहले लगे कैपासिटर मुख्यतः एक न्यूनतम समय निर्धारित करेगा जिसको हम 1 किलो-ओह्म के चर-प्रतिरोध को सेट करके समय को इच्छानुसार बदला जा सकता है| जब न्यून-वोल्टेज का मान इस समय से ज्यादा देर तक रहेगी तब यह निश्चित हो जाएगी कि आगंतुक दरवाजे पर खरा है और तब वह इलेक्ट्रानिक-घंटी को बजा देगा|

इन्फ्रारेड रिसीवर का सर्किट डायग्राम

इन्फ्रारेड रिसीवर का सर्किट डायग्राम

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>