इलेक्ट्रानिक पानी-टंकी जलस्तर सूचक

समस्या:

हमलोग जानते हैं कि जल का बहुत महत्व है, इसके आलावा उर्जा का भी बहुत महत्व है| आजकल विद्युत् मोटर से संचालित पानी का सिस्टम बहुत प्रचलित हो गया है, परन्तु अधिकांश सिस्टम में पानी टैंक में भर जाने के बाद भी मोटर बंद नहीं होता है और बहुत मात्रा में पानी कि बर्बादी होती है| इसके साथ उर्जा कि भी बर्बादी होती है| अगर हम कुछ ऐसा आविष्कार करें जिससे कि इस बर्बादी को रोका जा सके तो हम बहुत मात्रा में पानी तथा उर्जा का संरक्षण कर सकेंगे|

समाधान:

इसके लिए हम पानी के अंदर बहुत सारे डिटेक्टर प्रोब लगायेंगे जो कि पानी के लेवल को डिटेक्ट करेगा और विभिन्न जलस्तर पर इसका सुचना किसी लाईट को जला कर देगा| जब जलस्तर अपनी उच्चतम सीमा को पार कर जायेगा तो अलार्म बजकर इसकी सुचना देगा| इसका परिपथ-संरचना (सर्किट) बहुत ही साधारण है|

जरुरी उपकरण:

  • ताम्बे कि तार, 3-5 सेमी कि 8 कि संख्या में
  • रिबन तार, टैंक तथा प्रदर्शन-बिंदु के बीच के दुरी के बराबर
  • ब्लू, सफेद तथा लाल रंग कि इलेक्ट्रानिक-बल्ब (LED)
  • इलेक्ट्रानिक-घंटी
  • 9V कि बैटरी
  • बैटरी कनेक्टर
  • PCB

डायग्राम तथा कार्यप्रणाली:

इस सिस्टम को बनाने के लिए पहले हम डिटेक्टर प्रोब बनायेंगे, इसके लिए हम ताम्बे कि तार को समान्तर इस प्रकार से रखेंगे कि उसके बीच में लगभग 1सेमी कि जगह हो| तथा दोनों तार को एक विद्युत् कुचालक जैसे कि प्लास्टिक अथवा के सहायता से निचे दिए हुए चित्र-1 कि तरह जोर देंगे| इस बात का ध्यान रहना चाहिए कि रिबन-तार जो कि ताम्बे के खुली तारों से जूरी हुई है, किसी भी स्थिति में पानी के संपर्क में नहीं आनी चाहिए|

चित्र-2

चित्र-2

अब रिबन-तार के सहायता से दो-दो करके सभी चार डिटेक्टर-प्रोब को जोड़ देते हैं| और इसके दुसरे सिरे को प्रदर्शनी-स्थान पर LED और इलेक्ट्रानिक-घंटी से चित्र-2 के अनुसार जोड़ देते हैं|

चित्र-2

चित्र-2

इस बात का हमेशा ध्यान रहे कि हम इस सर्किट में AC-विद्युत का प्रयोग ना करें जिससे कि हमारे पिने के पानी में विद्युत प्रवाहित हो जाये और कोई अनहोनी हो जाए|

इनोवेटिव एंटी-स्लीपिंग प्रणाली

समस्या:

अक्सर हम परीक्षा के समय पढने के लिए बैठने से पहले सोचते हैं कि आज देर रात तक पढ़ेंगे परन्तु कुछ समय पश्चात ही हमे झपकियाँ आना शुरु हो जाती है और हम कब सो जाते हैं इसका पता ही नहीं चलता है, फिर जब हमारी नींद अगले दिन खुलती है तो हमें इस बात का बहुत पचतावा होता है और हमें बचे हुए समय में तैयारी पूरी करने का मानसिक दबाब आ जाता है| अगर हम कुछ ऐसा मशीन का आविष्कार करें जिससे कि जब हम झपकी लेना शुरू कर दे तो यह शोर कर के हमें जगा दें|

समाधान:

इसके लिए हम एक विशेष प्रकार के कोण सेंसर का उपयोग करेंगे और जैसे कि झपकी लेनें के क्रम में हमारा सर निचे कि ओर झुकेगा, इस सेंसर से लगा हुआ इलेक्ट्रानिक अलार्म शोर करना शुरू कर देगा और इस तरह हम अचेतन अवस्था से उठ कर पढ़ना शुरु कर देंगे जिससे कि हमारा परीक्षा अच्छा जायेगा| इस प्रणाली को हम अच्छी तरह अपने टोपी अथवा चश्मे में सेट कर सकते हैं|

जरुरी उपकरण:

  • विद्युत कुचालक नली, 5-7 मिलीमीटर व्यास कि तथा 2-3 सेमी लम्बी
  • पतली ताम्बे कि पत्ती, 1 सेमी लम्बी
  • दो पतली विद्युत तारें, 1 मी लम्बी
  • धातु कि गोला, 4-5 मिलीमीटर व्यास कि
  • इलेक्ट्रानिक घंटी
  • विद्युत उर्जा स्रोत, 9 वोल्ट कि बैटरी
  • बैटरी कनेक्टर

डिजाइन एवं कार्यप्रणाली:

इस मशीन कि कार्यप्रणाली बहुत ही साधारण है, परन्तु इस अविष्कार कि सोच नवप्रवर्तन वाली है| इसको बनाने के लिए पहले हम ताम्बे कि दोनों पत्ती को नली के एक सिरे से इस प्रकार से जोरेंगे जिससे दोनों पत्तियों के बीच बहुत हलकी सी दुरी बनी रहे| इसके बाद इसमें धातु कि गोली को डालकर दुसरे सिरे को बंद कर देंगे| अब दिए हुए चित्र-1 के अनुसार हम ताम्बे के एक सिरे को बैटरी के धनात्मक सिरे से जोर देंगे तथा दुसरे ताम्बे के पत्ती को इलेक्ट्रानिक-घंटी कि धनात्मक सिरे से जोरेंगे और इलेक्ट्रानिक-घंटी के ऋणात्मक सिरे को बैटरी के ऋणात्मक सिरे से जोर देंगे|

चित्र-1

चित्र-1

अब हमारा पूरा ध्यान सेंसर नली को व्यवस्थित करने में होगा| हम सेंसर नली को इस प्रकार से व्यवस्थित करेंगे जिससे कि जब हमारा सर उपर रहे तब नली के अंदर कि गोली ताम्बे कि पत्ती वाली सिरे से दूर रहे, और जैसे ही हमारा सर झुके वह धातु कि गोली दोनों ताम्बे कि पत्ती को आपस में जोड़ दे जिससे कि इलेक्ट्रानिक-घंटी का परिपथ(सर्किट) पूरा हो जायेगा और घंटी बज उठेगी, और इसके फलस्वरूप हम नींद से उठ जायेंगे|

वाहनों के लिए ऑटोमैटिक हेड-लाईट प्रोजेक्ट

graphics-click-here-688974इस आविष्कार को करने के लिए जरुरी उपकरण यहाँ प्राप्त करें|

समस्या:
जब हम मोटरसाईकिल से चलते हैं तो अक्सर ऐसा देखते हैं कि सामने से आने वाले व्यक्ति हमें हमारे मोटरसाईकिल के बारे में बताता है कि आपके मोटरसाईकिल का हेडलाईट जल रहा है, और तब हम उसको बंद करते हैं| इस तरह जितनी देर तक हमारे मोटरसाईकिल का हेडलाईट जलता रहता है उतनी देर तक उर्जा का अपव्यय होता है| अगर हम ऐसा आविष्कार करें कि यह दिन में हेडलाईट को अपने-आप बंद कर दे तो हम इस तरह से उर्जा का बचत कर सकते हैं और एक स्मार्ट उपयोगिता को अपने मोटरसाईकिल में प्रयुक्त कर सकते हैं|

सामाधान:
इस आविष्कार में हम ऐसी प्रणाली का उपयोग करेंगे जिससे वो दिन के लाईट को सेंस करके मोटरसाईकिल के हेडलाईट को बंद कर देगा अगर हम उसको बंद करना भूल गए हों| इस प्रणाली में हम एक लाईट सेंसर का प्रयोग करेंगे जो कि लाईट कि उपस्थिति को सेंस करके इसकी जानकारी एक ऑटोमैटिक स्विच को देगा और ये अपने से संचालित हेडलाईट को बंद एवं चालु कर देगा|

जरुरी उपकरण|

  • लाईट सेंसर
  • 9 वोल्ट का वोल्टेज रेगुलेटर
  • पॉवर ट्रांसिस्टर (दो कि संख्या में)
  • 6 वोल्ट का रिले
  • 200 किलो-ओह्म का चर-प्रतिरोध
  • 100 ओह्म का प्रतिरोध
  • इलेक्ट्रानिक स्विच
  • PCB

कार्यप्रणाली एवं डिजाइन:

इसमे पहले हम DC वोल्टेज जो कि मोटरसाईकिल के बैटरी से मिलती है उसको 9वोल्ट के वोल्टेज रेगुलेटर कि सहायता से 9 वोल्ट में बदल देंगे जो कि हमारे सर्किट को चलाने के काम में उपयोग होगा| इसके बाद लाईट सेंसर और 200 किलो-ओह्म के प्रतिरोध को चित्रानुसार जोड़कर उसके मध्यबिदु को पॉवर-ट्रांजिस्टर के बेस सिरे से जोड़ देंगे| उसके बाद एक 100ओह्म का प्रतिरोध को ट्रांजिस्टर के कलेक्टर सिरे से जोड़ देंगे| तथा दुसरे पॉवर-ट्रांजिस्टर के बेस सिरे को पहले ट्रांजिस्टर के कलेक्टर सिरे से जोड़ेंगे| दोनों ट्रांजिस्टर के एमिटर सिरे को 0वोल्ट वाले लाइन से जोड़ देंगे तथा रिले को दुसरे ट्रांजिस्टर के कलेक्टर सिरे से जोड़ देंगे| इस रिले के दूसरी साइड से हम हेड लाईट को ऑटोमैटिक रूप से संचालित करेंगे| पुरे प्रणाली को हम एक स्विच के सहायता से उपयोग में लायेंगे| यह स्विच वोल्टेज रेगुलेटर के ठीक पहले लगा रहेगा जैसे ही हम इसको चालू करेंगे पूरा प्रणाली उपयोग में आ जायेगा और काम करने लगेगा|

वाहनों के ऑटोमैटिक हेड-लाईट प्रोजेक्ट का डायग्राम

वाहनों के ऑटोमैटिक हेड-लाईट प्रोजेक्ट का डायग्राम

रिमोट संचालित इलेक्ट्रिक बल्ब प्रोजेक्ट

graphics-click-here-688974इस आविष्कार को करने के लिए जरुरी उपकरण यहाँ से प्राप्त करें|

समस्या:
हम अक्सर ये पाते हैं कि, हम जब सोने जाते हैं तो आलस के कारण अपने रूम का बल्ब जलती हुई अवस्था में छोड़ देते हैं| हमारे बुजुर्ग लोगों को अक्सर घर के बल्ब और पंखे को संचालित करने में स्विचबोर्ड के दूर होने के कारण कठिनाई का सामना करते हैं|

सामाधान:
इस आविष्कार में हम एक ऐसा प्रणाली डिजाइन करेंगे जिसको हम घर के किसी भी इलेक्ट्रिकल मशीन जैसे| इलेक्ट्रिक-बल्ब, पंखे इत्यादी को इसके सहारे संचालित कर सकते हैं| यह किसी भी साधारण टीवी के रिमोट से संचालित कर सकेंगे  अथवा एक स्पेशल डिजाइन के रिमोट से इसको कंट्रोल कर सकते हैं|

जरूरी उपकरण:

  • छोटी ट्रांसफार्मर (230V/9V)
  • पॉवर-डायोड, 4 कि संख्या में
  • 100uF का कैपासिटर
  • 10uF के तीन कैपेसिटर
  • 7805 वोल्टेज रेगुलेटर
  • TSOP1738 इन्फ्रारेड सेंसर
  • IC555D टाइमर
  • 7474 D-टाइप का फ्लिप-फ्लॉप (एक बिट का मेमोरी)
  • MJE3055T पॉवर-ट्रांजिस्टर
  • 6 वोल्ट का रिले
  • 20K-Ohm का चर-प्रतिरोध
  • 100 ओह्म एवं 20 ओह्म का प्रतिरोध
  • PCB (इस आविष्कार के लिए डिजाइन किया हुआ)
    सारे उपकरण को प्राप्त करने के लिए  graphics-click-here-688974यहाँ क्लिक करें|

डिजाइन एवं कार्यप्रणाली:

इस आविष्कार को बनाने के लिए सबसे पहले हम AC वोल्टेज को DC वोल्टेज में बदलने के लिए सर्किट बनायेंगे (यही सर्किट अक्सर हमें DC चार्जर में मिलता है)| पहले हम 230V AC को 9V AC में बदलेंगे| उसके बाद पूर्ण-तरंग रेक्टिफायर सर्किट बनायेंगे जो कि चार पॉवर-डायोड से मिलकर बना होता है| इसके बाद इसको चित्रानुसार 100uF से जोड़ देंगे जिसको फिर 7805 नामक 5-वोल्ट के वोल्टेज रेगुलेटर से 5-वोल्ट DC में बदल देंगे, जिसको हम अपने इलेक्ट्रॉनिक सर्किट में उपयोग करेंगे| रिमोट का सिग्नल को सेंस करने का काम TSOP1738 के द्वारा होगा जिसका पिन-3 सेंस करने पर निम्न वोल्टेज देता है| इस निम्न वोल्टेज संकेत को हम IC555D टाइमर सर्किट के सहायता से पहचानते

हैं| और इसकी जानकारी एक बिट के मेमोरी 7474 (D-टाइप) के फ्लिप-फ्लॉप में सुरक्षित कर लेते हैं जो अपने पिछली याद कि हुई जानकारी के हिसाब से आनेवाली जानकारी को अपने में सुरक्षित कर लेता है| फिर हम इस मेमोरी के उत्पाद को एक पॉवर-ट्रांसिस्टर के मदद से शक्तिवर्धन करके एक रिले को संचालित करेंगे जिसके सहयोग से हम बल्ब तथा किसी इलेक्ट्रिक मशीन को नियंत्रित कर देते हैं|

रिमोट संचालित बल्ब प्रोजेक्ट का सर्किट डायग्राम

रिमोट संचालित बल्ब प्रोजेक्ट का सर्किट डायग्राम

दरवाजे के लिए स्मार्ट एवं ऑटोमैटिक घंटी

graphics-click-here-688974इस आविष्कार को करने के लिय उपकरण यहाँ से प्राप्त करें|

समस्या:
आजकल हम तकनिकी के साथ लेकर अपना जीवन के तरीके को आधुनिक कर रहे हैं| हम विज्ञानं एवं तकनिकी का मदद लेकर अपने आसपास के बहुत सारे समस्याओं का सामाधान कर सकते हैं| हम अक्सर देखते हैं कि हमारे घर कि घंटी बजती है तो कोई आगंतुक हमारे घर के दरवाजे पर खरा होता है| पर निम्नलिखित परिस्थितियों में हमें घंटी बजाने में कठिनाइयों का सामना करना परता है|

  1. जब हमारे दोनों हाथों में सामान होता है, तो हम बड़ी मशक्कत से घंटी बजा पाते हैं|
  2. हमारे बुजुर्ग को भी कभी कभी घंटी बजाने के लिए काफी मशक्कत करनी परती|
  3. हमारा घंटी कि स्विच कभी इतनी ऊपर होती है कि बच्चे वहां तक पहुँच नहीं पाते है जिसके कारण वे घंटी को बजा नहीं पाते है|
  4. बार-बार घंटी उपयोग होने के कारण उस पर काफी गंदगी जमा हो जाता है जिसके कारण स्विच पर बहुत तरह के जीवाणु उत्पन्न हो जाते हैं, और जब हम घंटी बजाते हैं तो वे हमारे हाथो से चिपक जाते हैं, जो कि सावघानी नहीं बरतने पर हमारे आहार के द्वारा शरीर के अंदर जा सकते हैं|
  5. कभी कभी कुछ आगंतुक को घंटी कि जानकारी नहीं होती है तो वे परेशानी का सामना करते हैं|

अगर हम कुछ ऐसा आविष्कार करें जिससे कि हम अपने घंटी को स्मार्ट एवं ऑटोमैटिक बना सकें और यह जैसे ही कोई आगंतुक हमारे घर के दरवाजे के सामने खरा हो वह उसको सेंस करके घंटी को अपने आप बजा दे|

सामाधान:
यहाँ हम इस समस्या से निपटने के लिए एक ऐसी प्रणाली विकसित करेंगे जिससे कि हम एक ख़ास तरह के इन्फ्रारेड लाईट को उत्सर्जित करेंगे जो कि किसी के सामने आने पर परिवर्तित होकर वापस आयेगा और उसमे लगा हुआ सेंसर उसे सेंस करके यह पहचान लेगा कि कोई बहार दरवाजे पर खरा है| अगर वह एक निश्चित न्यूनतम समय से ज्यादा देर तक खरा रहता है तो इससे यह निश्चित हो जायेगा कि वह हमारे ही आगंतुक हैं और ऑटोमैटिक सर्किट अपने से लगी घंटी को बजा देगा|

एक व्यवस्था ऑटोमैटिक दरवाजा घंटी प्रणाली के लिए|

एक व्यवस्था ऑटोमैटिक दरवाजा घंटी प्रणाली के लिए|

जरुरी उपकरण:

  • इन्फ्रारेड बल्ब
  • विशेष प्रकार के इन्फ्रारेड सेंसर
  • IC555D टाइमर
  • कैपासिटर 1pF के दो तथा 1F के एक
  • प्रतिरोध 330ओह्म, 220ओह्म, 100ओह्म एवं 20ओह्म
  • 20 किलो-ओह्म एवं 1 किलो-ओह्म का चर-प्रतिरोध
  • पॉवर-ट्रांसिस्टर दो कि संख्या में
  • इलेक्ट्रानिक घंटी
  • 9 वोल्ट कि बैटरी
  • बैटरी कनेक्टर
  • 5 मीटर जोरा-तार
  • PCB दो कि संख्या में
    सारे उपकरण को प्राप्त करने के लिएgraphics-click-here-688974 यहाँ क्लिक करें|

डिज़ाइन एवं कार्यप्रणाली:
हमारा यह आविष्कार एक विशेष प्रकार के इंफ्रारेड लाईट से संचालित होगा जो कि अदृश्य होता है एवं 38 किलो-हर्ट्ज के आवर्ती कि तरंग से सम्मलित होती है| हम पहले निचे दिए गए चित्र के अनुसार 330ओह्म का प्रतिरोध, 20 किलो-ओह्म का चर-प्रतिरोध एवं 1pF के कैपेसिटर को एक सीध में जोरकर 330ओह्म का एक सिरा 9 वोल्ट कि बैटरी के धनात्मक सिरे से जोरेंगे तथा 1pF के कैपेसिटर का एक सिरा बैटरी के ऋणात्मक सिरे से जोरेंगे| इसके पश्चात 330ओह्म एवं 20 किलो-ओह्म के मध्यबिंदू को IC555D के पिन-7(डिस्चार्ज) से जोर देंगे इसके आलावा 20 किलो-ओह्म तथा 1pF कैपेसिटर के मध्यबिंदू को पिन-2 एवं पिन-6 से जोरेंगे| IC555D के पिन-4 एवं पिन-8 को एकसाथ बैटरी के धनात्मक सिरे से जोर देंगे और IC555D के पिन-1 को सीधे बैटरी के ऋणात्मक सिरे से जोरेंगे तथा पिन-5 को एक अन्य 1pF कैपेसिटर के सहायता से बैटरी के ऋणात्मक सिरे से जोरेंगे| अब पिन-3 जो कि उत्पाद का पिन है, उसके साथ 220ओह्म के प्रतिरोध के एक सिरे को जोरेंगे तथा दुसरे सिरे को इन्फ्रारेड बल्ब के धनात्मक सिरे से जोरेंगे तथा इन्फ्रारेड बल्ब के ऋणात्मक सिरे को बैटरी कि ऋणात्मक सिरे से जोर देंगे| इस तरह से एक विशेष प्रकार कि इन्फ्रारेड तरंग उत्सर्जित करने वाली प्रणाली डिजाइन हो गयी|

ट्रांसमीटर सर्किट का डायग्राम

ट्रांसमीटर सर्किट का डायग्राम

दुसरे भाग में हम एक विशेष प्रकार के सेंसर TSOP1738 का प्रयोग करेंगे जो कि सिर्फ 38 किलो-हर्ट्ज आवृति वाली सम्मलित इन्फ्रारेड तरंग को ही सेंस करेगी| इसके पिन-1 को बैटरी के धनात्मक सिरे से तथा पिन-2 को बैटरी के ऋणात्मक सिरे से जोर देंगे| तत्पश्चात पिन-3 से 1F के एलेक्ट्रोलाईट कैपेसिटर का धनात्मक सिरा तथा 1 कलो-ओह्म के चर-प्रतिरोध एक सिरे को जोड़ देंगे| कैपेसिटर का ऋणात्मक सिरा को बैटरी के ऋणात्मक सिरे से जोड़ देंगे और 1 कलो-ओह्म के चर-प्रतिरोध का दूसरा सिरा एक पॉवर-ट्रांसिस्टर के बेस सिरे से जोड़ देंगे| तथा इसके बाकि कि सर्किट को हम चित्रानुसार जोड़ देंगे| तथा इलेक्ट्रानिक-घंटी के ऋणात्मक सिरे को दुसरे ट्रांसिस्टर के कलेकर टर्मिनल से जोड़कर इसके धनात्मक सिरे को बैटरी के धनात्मक सिरे से जोड़ देंगे| जैसे ही TSOP1738 सम्मलित इन्फ्रारेड लाईट को सेंस करेगा यह एक निम्न वोल्टेज देगा जो ट्रांजिस्टर सर्किट के द्वारा इलेक्ट्रानिक-घंटी को बजा देगा| पहले ट्रांजिस्टर के पहले लगे कैपासिटर मुख्यतः एक न्यूनतम समय निर्धारित करेगा जिसको हम 1 किलो-ओह्म के चर-प्रतिरोध को सेट करके समय को इच्छानुसार बदला जा सकता है| जब न्यून-वोल्टेज का मान इस समय से ज्यादा देर तक रहेगी तब यह निश्चित हो जाएगी कि आगंतुक दरवाजे पर खरा है और तब वह इलेक्ट्रानिक-घंटी को बजा देगा|

इन्फ्रारेड रिसीवर का सर्किट डायग्राम

इन्फ्रारेड रिसीवर का सर्किट डायग्राम

अंधे लोगों के लिए इलेक्ट्रानिक-आँख का आविष्कार

graphics-click-here-688974इस आविष्कार को बनाने कि लिए जरुरी उपकरण प्राप्त करने के लिए यहाँ क्लिक करें|
समस्या:

हमलोगों में कुछ ऐसे व्यक्ति हैं, जो कि जन्म से अथवा किसी दुर्घटना के कारण अपने कुछ अंगो को खो देते हैं| इनमें आँखों का अपना अद्वितीय स्थान होता है| अक्सर ऐसे लोग एक छरी के सहायता से अपना मार्ग ढूंढते हैं, जिससे कि वह अपना चलना फिरना कर सके| पर अक्सर यह तरीका कारगर नहीं होती हैं| और मार्ग में अगर कोई गड्ढा हो अथवा कोई वस्तू हो तो उसका पता नहीं चल पता है, और वे ठोकर खाकर गिर पड़ते हैं|

सामाधान:
अगर हम कुछ ऐसा मशीन का आविष्कार करें जिससे कोई व्यक्ति जो आँखों से अपंग हो परन्तु कानो के सुनने कि क्षमता हो, इसका उपयोग कर के अपने मार्ग कि जानकारी सुनकर प्राप्त कर सकता हो| इस आविष्कार के लिए हम एक विशिष्ट किस्म का इन्फ्रारेड बल्ब का उपयोग करेंगे जिससे एक विशिष्ट प्रकार कि तरंग निकलेगी और इसके समांतर में एक विशिष्ट प्रकार का इन्फ्रारेड सेंसर लगा होगा जो कि सिर्फ इन्फ्रारेड बल्ब से निकलने वाले विशेष प्रकार के तरंग को ही सेंस करेगा| इस पुरे प्रणाली को निचे दिए गए चित्र के अनुसार छरी में सेट कर सकते हैं|

इलेक्ट्रानिक-आँख प्रोजेक्ट का एक व्यवस्था

इलेक्ट्रानिक-आँख प्रोजेक्ट का एक व्यवस्था

जरुरी उपकरण:

  • IC555 टाइमर माइक्रोचिप
  • 1nF का कैपेसिटर (2 कि संख्या में)
  • 330ओह्म, 220ओह्म, 100ओह्म एवं 20ओह्म का प्रतिरोध प्रत्येक में से|
  • 20K ओह्म का चर-प्रतिरोध (Variable Resistance)
  • पावर-ट्रांसिस्टर (MJE3055T) दो कि संख्या में
  • इन्फ्रारेड-बल्ब (IR LED)
  • विशेष प्रकार का इन्फ्रारेड सेंसर (TSOP1738)
  • इलेक्ट्रानिक-स्पीकर
  • PCB (सर्किट-बोर्ड)
  • DC बैटरी 9 वोल्ट कि
  • बैटरी कनेक्टर
    सारे उपकरण प्राप्त करने के लिए,graphics-click-here-688974यहाँ क्लिक करें|

सर्किट-डायग्राम एवं कार्यप्रणाली:
पहले हम IC555 के सहायता से और इसके सहायक उपकरणों के मदद से निचे ट्रांसमीटर कि सर्किट के अनुसार एक सर्किट बना लेंगे और चर-प्रतिरोध के मदद से इसका प्रतिरोध 13K ओह्म के पास निर्धारित कर देंगे| इस प्रकार हम एक ऐसा तंत्र विकसित कर लेंगे जो 38KHz आवर्ती कि इन्फ्रारेड प्रकाश उत्पन्न करेगी जो कि वापस TSOP के द्वारा रिसीवर सर्किट में सेंस किया जायेगा|

ट्रांसमीटर सर्किट का डायग्राम

ट्रांसमीटर सर्किट का डायग्राम

रिसीवर सर्किट बनाने के लिए हम सभी उपकरणों को रिसीवर के चित्रानुसार जोड़ देंगे जिसमे कि लगा हुआ TSOP सिर्फ और सिर्फ इन्फ्रारेड बल्ब से निकली हुई 30KHz के तरंग को ही सेंस करेगी| रिसीवर सर्किट में लगा हुआ इलेक्ट्रानिक-स्पीकर एक आवाज उत्पन्न करने का काम करेगी जो कि छरी के रास्ते में किसी चीज़ के आने से ही उत्पन्न होगी और व्यक्ति आसानी से अपने चरों ओर कि वस्तुओ कि जानकारी ले सकेगा|

रिसीवर सर्किट का डायग्राम

रिसीवर सर्किट का डायग्राम

अदृश्य घर सुरक्षा प्रणाली प्रोजेक्ट

graphics-click-here-688974इस आविष्कार को करने के लिए जरूरी उपकरण प्राप्त करने के लिए यहाँ क्लीक करें|

समस्या:
आजकल चोरी कि घटनाएँ आम बात हो गयी है| अक्सर हम गली-मोहल्ले एवं सामाचार-पत्रों में चोरी कि घटनाओं से रूबरू होते रहते हैं| इन चोरियों के होने कि खबर हमें चोरी होने के बाद पता चलता है, अगर कुछ ऐसा सिस्टम हो जो अदृश्य हो और जैसे कि कोई अपरिचित व्यक्ति किसी सुरक्षित जगह पर जाये यह प्रणाली उस जगह के मालिक को इसकी जानकारी दे दे तो बहुत सारी चोरियों को रोका जा सकता है|

सामाधान:
हम इस आविष्कार में कुछ ऐसा मशीन विकसित करेंगे जो एक अदृश्य प्रकाश एक दिशा में उत्सर्जित करेगी एवं जैसे ही कोई चीज उस जगह पर जाएगी यह मशीन आराम से यह समझ जाएगी कि कोई चोर अथवा अपरिचित व्यक्ति उस सुरक्षित जगह के आस-पास है, और इसकी जानकारी मालिक को दे देगी| जिससे उस जगह का मालिक सतर्क हो जायेगा और अपनी कीमती वस्तुएँ कि रक्षा कर सकेगा|

जरुरी उपकरण|

  • इन्फ्रारेड लाईट बल्ब (IR LED)
  • प्रतिरोध (330ओह्म)
  • इन्फ्रारेड लाईट सेंसर (Photo-transistor)
  • इलेक्ट्रानिक-घंटी
  • चर-प्रतिरोध 10Kओह्म (Variable Resistance)
  • आटोमैटिक-स्विच (Power-Transistor)
  • PCB (इलेक्ट्रानिक सर्किट-बोर्ड)
  • एक-जोरा तार (5 मीटर)
  • 9 वोल्ट कि बैटरी
  • बैटरी कनेक्टर
    सारे उपकरण प्राप्त करने के लिए graphics-click-here-688974 यहाँ क्लिक करे|

सर्किट डिज़ाइन:
पहले हम इंफ्रारेड लाईट बल्ब के घनात्मक सिरे को एक 330ओह्म के प्रतिरोध से जोर देंगे और फिर बल्ब के ऋणात्मक सिरे को बैटरी के ऋणात्मक सिरे से जोर देंगे तथा प्रतिरोध के दुसरे सिरे को बैटरी के धनात्मक सिरे से जोर देंगे| इस प्रकार हमारा इन्फ्रारेड लाईट बल्ब अदृश्य लाईट उत्सर्जित करेगा परन्तु कोई उसे देख नहीं पायेगा| अगर हम इस मशीन को कहीं दूर स्थापित करना चाहते है तो बैटरी से एक लम्बे तार से जोरेंगे|
अब अगला कदम सेंसर सर्किट है| इसके लिए हम इन्फ्रारेड सेंसर को इंफ्रारेड बल्ब के एकदम सीध में कुछ दुरी पर स्थापित करेंगे जिससे कि अदृश्य इन्फ्रारेड लाईट सेंसर पर हमेशा परता रहे| निचे एक दुश्य में इसका स्थापना दिखाया गया है|

सुरक्षा प्रणाली स्थापना का एक दृश्य

सुरक्षा प्रणाली स्थापना का एक दृश्य

अब हम दो लम्बे तार जैसा कि चित्र में दिखाया गया है, को अपने स्मार्ट-ऑटोमैटिक सर्किट तक ले जायेंगे जहाँ पर इसके कलेक्टर वाले सिरे को बैटरी के धनात्मक सिरे से जोरेंगे तथा एम्मिटर वाले सिरे को चर-प्रतिरोध के एक सिरे से जोरेंगे तथा चर-प्रतिरोध का दूसरा सिरा बैटरी के ऋणात्मक सिरे से जोरेंगे| अब ऑटोमैटिक-स्विच का बेस सिरा को इन्फ्रारेड-सेंसर के एम्मिटर सिरे से जोरकर स्विच के एम्मिटर सिरे को बैटरी के ऋणात्मक सिरे से जोर देंगे तथा आटोमैटिक-स्विच के कलेक्टर सिरे को इलेक्ट्रानिक-घंटी के ऋणात्मक सिरे से जोरेंगे इसके साथ ही घंटी के धनात्मक सिरे को बैटरी के धनात्मक सिरे से जोर देंगे| पूरा सर्किट डायग्राम निचे चित्र में दिखाया गया है|

अदृश्य सुरक्षा प्रणाली का सर्किट डायग्राम

अदृश्य सुरक्षा प्रणाली का सर्किट डायग्राम

स्मार्ट फायर अलार्म प्रोजेक्ट

graphics-click-here-688974इस प्रोजेक्ट को बनाने हेतु उपकरण प्राप्त करने के लिय यहाँ क्लीक करें|
समस्या:

हमारे स्कूल, कालेज, घर एवं अन्य जगहों पर बहुत सारे ज्वलनशील पदार्थ होते हैं जिनमे आग लगने कि बहुत सम्भावना होती है| अक्सर हम समाचार सुनते हैं कि कहीं पर किसानो कि फसल आग लगने के कारण नष्ट हो गयी तो कहीं घर के घर जलकर राख हो गए, कहीं फैक्ट्री में आग लग गयी तो कहीं दुकाने स्वाहा हो गया| इन सब घटनाओ में एक चीज साफ़ नजर आती है कि अगर समय रहते आग लगने कि पता चल जाती तो काफी नुकसान को बचाया जा सकता था|

सामाधान:
जैसा कि हम सब जानते हैं कि आग पहले कहीं एक छोटे से जगह से शुरु होती है जैसे कि रसोईघर या विद्युत्-स्विचबोर्ड और ऐसे जगह जहाँ आग लगने कि संभावना अधिक होती है| अगर हमें आग लगने के प्रारंभिक स्थिति में ही किसी घंटी के जरिये इसकी सुचना मिल जाये तो हम आसानी से आग पर काबू पा लेंगे और एक बड़ी दुर्घटना को होने से रोक लेंगे|
इस प्रणाली को बनाने के लिए हमें एक ऐसे सेंसर कि अव्यश्यकता होगी जो कि तापमान को मापता रहे और इसकी जानकारी एक इंटेलिजेंट प्रणाली को दे जो हमेशा इसकी निगरानी करता रहे और जैसे ही आग लगने का सिग्नल मिले यह इंटेलिजेंट-प्रणाली अपने से संचालित एक इलेक्ट्रानिक-घंटी को बजा दे जिससे कि हमें सावधान हो जाएँ और आग पर काबू पा ले|

जरुरी उपकरण:

  •  थेर्मिस्टर (10K): यह वातावरण के तापमान को मापने के काम में आयेगा|
  • चर-प्रतिरोघ(10K): यह तापमान विन्दु को सेट करने के काम आयेगा|
  • पॉवर-ट्रांसिस्टर: यह आटोमैटिक स्विच कि तरह काम करेगा|
  • PCB: यह सर्किट को बनाने के काम आयेगा|
  • इलेक्ट्रानिक-घंटी: यह घंटी बजने के लिए उपयोग होगा|
  • बैटरी(9V): यह प्रोजेक्ट को काम करने हेतु जरुरी उर्जा प्रदान करेगा|
  • बैटरी कनेक्टर: बैटरी को सर्किट से जोरने के लिए|

सारे उपकरण प्राप्त करने के लिए, graphics-click-here-688974यहाँ क्लिक करें|

प्रोजेक्ट-डिज़ाइन:
इस आविष्कार को करने के लिए हम थेर्मिस्टर नामक एक तापमान सेंसर लेंगे जो कि अपना इलेक्ट्रिक-प्रतिरोध (Resistance) वातावरण के तापमान के अनुसार बदलता रहता है| फिर इसको एक चर-प्रतिरोध (Variable Resistance) के साथ श्रेणीबद्ध क्रम में जोर कर सर्किट के मध्यबिंदू का सिग्नल को एक इलेक्ट्रोनिक-ट्रांसिस्टर के बेस पिन से जोर देंगे| उसके बाद इलेक्ट्रोनिक-ट्रांसिस्टर का एमिटर पिन को शून्य-विभव से जोर देंगे और इलेक्ट्रानिक-घंटी कि धनात्मक सिरे को बैटरी के धनात्मक सिरे से जोरेंगे एवं ऋणात्मक सिरे को इलेक्ट्रोनिक-ट्रांसिस्टर के कलेक्टर सिरे से जोरेंगे| बस आपका स्मार्ट फायर अलार्म तैयार है| इसको अपने जरुरत के अनुसार परिवर्तन कर अपने उपयोग में आसानी से लाया जा सकता है|
प्रोजेक्ट का सर्किट-डायग्राम निचे चित्र में दिया गया है|

स्मार्ट फायर अलार्म का सर्किट डायग्राम

स्मार्ट फायर अलार्म का सर्किट डायग्राम

आटोमैटिक एवं स्मार्ट लाइटिंग प्रोजेक्ट

graphics-click-here-688974इस आविष्कार को बनाने के उपकरण के लिए यहाँ क्लीक करें|
समस्या:
आजकल जैसा कि हम सब जानते हैं कि उर्जा हमारे लिये बहुत महत्वपूर्ण है| इसलिए हमलोग को उर्जा को व्यर्थ नहीं करना चाहिए| आज दुनिया में बहुत सारे वैज्ञानिक इस दिशा में कार्य कर रहे हैं| यहाँ निचे दिए गए कुछ उदाहरण हैं जहाँ हम उर्जा का अपव्य करते हैं, जो कि इस आविष्कार के द्वारा बचाया जा सकता है|

  • दिन के समय में विद्युत वलब को जलते छोर देना|
  • कमरे के अन्दर जरूरत से ज्यादा बल्ब जलना|
  • दिन में मोटरसायकल कि लाईट को जलते रखना|

सामाधान:
इस आविष्कार में हम एक लाईट सेंसर का उपयोग करते हैं, जो लाईट को मापने का काम करता है| ये सेंसर लाईट कि तीव्रता माप कर इसकी जानकारी एक इलेक्ट्रोनिक-आटोमैटिक तंत्र को देगी| ये तंत्र अपने से जूरी एक लाईट को संचालित करेगी| यह आविष्कार निम्नलिखित तरीके से काम करेगी:-

  • जब सेंसर लाईट कि उपस्थिति  को माप कर इसकी जानकारी इलेक्ट्रॉनिक-आटोमैटिक तंत्र को देगी तब ये लाईट बल्ब को बंद कर देगी|
  • जब सेंसर लाईट कि अनुपस्थिति को मापेगी तब इसकी जानकारी इलेक्ट्रॉनिक-आटोमैटिक तंत्र को देगी, और फिर ये तंत्र लाईट बल्ब को चालु कर देगी जिससे कि इसका उपयोग किया जा सके|

जरुरी उपकरण:

  1. लाईट सेंसर (LDR): इसकी विदयुत प्रतिरोध (Resistance) लाईट कि तीव्रता पर निर्भर करती है|
  2. लाईट बल्ब (LED): यह बल्ब 2V-4V वोल्टेज पर जलती है, एवं 10mA-20mA विद्युत-धारा प्रवाहित करती है|
  3. पावर-ट्रांसिस्टर: यह एक आटोमैटिक-स्विच कि तरह काम करती है| जैसे कि हम बल्ब या पंखे को घर पर हाथ से संचालित स्विच से चालु एवं बंद करते हैं, उसी तरह ये आटोमैटिक स्विच स्वत: बंद एवं चालू कर सकती है|
  4. बैटरी कनेक्टर:
  5. बैटरी (9V):
  6. प्रतिरोध (३३०ओह्म):
  7. PCB
    सारे उपकरण यहाँ से प्राप्त किया जा सकता है|graphics-click-here-688974 यहाँ क्लीक करें|
    निचे दिए हुए सर्किट डायग्राम के अनुसार इस प्रोजेक्ट को बनाया जाता है|
    inventix_e005